Friday, February 19, 2010

संभावित नक्सली हमले के मद्देनजर हाई अलर्ट

बिहार और पश्चिम बंगाल में नक्सली तांडव के उपरांत छत्तीसगढ़ में संभावित हमलों के मद्देनजर सर्वाधिक नक्सल प्रभावित इलाकों में हाई अलर्ट घोषित किया गया है। गृह विभाग के सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय गुप्तचर ब्यूरो ने अतिरिक्त सावधानी बरतने के निर्देश दिए है। गौरतलब है कि झारखंड में भी एक बीडीओ को अगुवा करने के उपरांत नक्सली अपने अन्य साथियों को रिहा करने की मांग लगातार कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल में दर्जनों लोगों को मौत के घाट उतारा जा चुका है तथा कल बिहार के जमुई जिले के सिंकदार थाना क्षेत्र में भी नक्सलियों ने 12 लोगों की निर्ममता पूर्वक हत्या कर दी। इन सब वारदातों के उपरांत केंद्रीय गुप्तचर ब्यूरो ने राज्य के गृह विभाग को संभावित नक्सली हमलों के मद्देनजर अलर्ट कर दिया है। विभागीय सूत्रों ने बताया कि धूर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा, बीजापुर, जगदलपुर, राजनांदगांव में हाई अलर्ट घोषित किया गया है। बस्तर पुलिस के नक्सल आपरेशन सेल के एक वरिष्ठ अफसर का कहना है कि नक्सली कांकेर और राजनांदगांव में कोई बड़ी वारदात कर सकते है। उनके मुताबिक छत्तीसगढ़ में चलाए जा रहे आपरेशन ग्रीन हंट की सफलता से बौखलाकर ही नक्सली दीगर राज्यों में गंभीर वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। जिसकी पुनरावर्ती छत्तीसगढ़ में भी हो सकती है। नक्सली आपरेशन से जुड़े सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के महानिदेशक एवं कांकेर के डीआईजी श्री तोमर आज सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने इन नक्सल प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे कर सकते है। हमारे बस्तर संवाददाता के मुताबिक कल रात सीमावर्ती महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने एक नक्सली कैम्प को ध्वस्त कर दिया। कैंप से नक्सली भागने में सफल हो गए पर वहां से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारुद बरामद किया गया है। पुलिस के हाथ पांच हथगोले भी लगे है तीन बारुदी सुरंगों को भी नष्ट किए जाने का समाचार है। इधर छत्तीसगढ़ में सर्चिंग के लिए अभियान छेड़ दिया गया है।
जशपुर में नक्सली धमक!
इधर जशपुर जिले में भी नक्सली धमक की खबर से पुलिस के हाथ पांव फूल गए है। पश्चिमी पठार क्षेत्र के किनकेन के जंगलों में लगातार सशस्त्र युवकों के हरी वर्दी में देखे जाने की सूचना पुलिस को मिली है। इस संबंध जशपुर एसपी सुशीलचंद्र द्विवेदी का कहना है कि पुलिस को कुछ हथियार बंद लोगों के जंगल में देखे जाने की सूचना मिली है। पुलिस पार्टी लगातार इन क्षेत्रों में सर्चिंग कर रही है। बताया गया है कि कुछ ग्रामीणों को पेड़ न काटने की हिदायत के साथ अंजाम भुगतने की धमकी भी इन हथियार बंद युवकों द्वारा दी गई है। कुछ ग्रामीणों को पीटने की शिकायत पुलिस को मिली है।

No comments:

Post a Comment